महिला टेनिस खिलाडिय़ों ने दी ओलिंपिक बहिष्कार की धमकी

महिला टेनिस खिलाडिय़ों ने दी ओलिंपिक बहिष्कार की धमकी

एथेंस ओलिंपिक शुरू होने में अब मात्र सात दिन रह गए हैं और महिला टेनिस खिलाडिय़ों ने ओलिंपिक बहिष्कार की धमकी दी है, यदि दो जर्मन खिलाडिय़ों को ओलिंपिक में भाग लेने के लिए क्लीन चिट नहीं दी जाती है। डब्ल्यूटीए टूर की खिलाडिय़ों ने कहा है यदि जर्मनी की एंका बार्ना और मर्लिन वेनगार्टनर को अंतरराष्टï्रीय टेनिस महासंघ के क्वालिफाइंग स्तर को पूरा करने के बाद भी ओलिंपिक टीम में शामिल नहीं किया जाता है तो वे ओलिंपिक का बहिष्कार करेंगी। शीर्ष 56 खिलाडिय़ों को ओलिंपिक में स्वत: प्रवेश मिलता है, जबकि बार्ना और वेनगार्टनर (वरीयता क्रमश: 46 व 52) ने आईटीएफ मापदंड के आधार पर एथेंस के लिए क्वालिफाई किया है। जर्मन ओलिंपिक समिति के हालांकि अपने अलग मापदंड हैं। उनके अनुसार ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के सेमीफाइनल या शीर्ष स्तर के टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने वाली खिलाड़ी उसकी ओलिंपिक टीम में स्थान बना सकती है जो ये दोनों खिलाड़ी पूरा नहीं कर पाई हैं। फ्रांस की नताली डेली ने टोरंटो ग्लोव और मेल से कहा हमने इस मामले पर खिलाडिय़ों की बैठक में विचार किया और मुझे लगता है कि बहिष्कार का खतरा हो सकता है लेकिन यूनान की विश्व की 34वें नंबर की खिलाड़ी और देश की टेनिस पदक की उम्मीद एलेना डेनिलिडाऊ ऐसे किसी कदम पर विचार नहीं कर रही हैं।

सानिया क्वार्टर फाइनल में

हैदराबाद । देश की युवा टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने रेक्सहैम (इंग्लैंड) में 10 हजार डॉलर के आईटीएफ महिला टेनिस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सानिया ने ब्रिटेन की मेलिसा बैरी को 6-2, 6-1 से हराते हुए अंतिम आठ का टिकट कटाया। कल बुधवार को क्वार्टर फाइनल में सानिया को ऑस्ट्रेलिया की डुबरावका से खेलना होगा। बैरी के खिलाफ पूरे मैच में सानिया ने पकड़ बनाए रखी। सानिया ने अपने पॉवर गेम की बदौलत ब्रिटिश प्रतिद्वंद्वी को वापसी का मौका नहीं दिया।

शारापोव की आसान जीत

टोंरटो। विंबलडन चैंपियन मारिया शारापोव ने म्यूर्तो रिको की क्रिस्टिना ब्रांडी को कल बुधवार को यहां 13 लाख डालर के मांट्रियल कप टेनिस टूर्नामेंट के अपने पहले मैच में आसानी से 6-1, 6-4 से हरा दिया लेकिन रूस की दो अन्य खिलाडिय़ों चौथी वरीयता प्राप्त एलेना दिमेनतिएवा और आठवीं वरीयता प्राप्त नादिया पेत्रोवा को दूसरे राउंड में ही पराजय का मुंह देखना पड़ा। विंबलडन जीतने वाली रूस की पहली खिलाड़ी 17 साल की शारापोवा को दूसरे सेट में कुछ चुनौती मिली लेकिन उन्होंने बेहतरीन बैकहैंड और ठोस राउंड स्ट्रोक्स के सहारे मैच सहजता से जीत लिया। दिमेनतिएवा को अर्जेंटीना की गिसेला दुलको ने 6-1, 6-4 से मात दी। रूस की एलेना लिखोवत्सेवा ने अपने ही देश की पेत्रोवा को 6-4, 6-7, 7-5 से शिकस्त दी। फ्रेंच ओपन चैंपियन तीसरी वरीयता प्राप्त एनेस्तेसिया मिस्किना स्पेन की आरांता पारा सांतोंजा को 6-0, 6-4 से हराने में कामयाब रहीं।

गावस्कर आईसीसी के विशिष्ट चयन पैनल में

लंदन । भारत के महानतम सलामी बल्लेबाज सुनील गावस्कर को इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के पुरस्कारों के लिए चयन प्रक्रिया पर निगरानी रखने वाले पांच सदस्यीय विशिष्ट चयन पैनल में शामिल किया गया है जबकि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर और अब कमेंटेटर रिची बेनो इस पैनल के अध्यक्ष होंगे। इस विशिष्ट पैनल के अन्य सदस्यों में तीन अन्य महान खिलाड़ी इयान बॉथम (इंग्लैंड), माइकल होल्डिंग (वेस्टइंडीज) और बेरी रिचडर््स (दक्षिण अफ्रीका) शामिल हैं। आईसीसी के पुरस्कार अगले महीने दिए जाएंगे। आईसीसी चयन पैनल पचास सदस्यीय वोटिंग अकादमी के लिए चार व्यक्तिगत पुरस्कार वर्गों के खिलाडिय़ों का चयन करेगा जो प्रत्येक व्यक्तिगत पुरस्कार के लिए 3-2-1 के क्रम में वोट देंगे। वे वर्ष की सर्वŸोष्ठ आईसीसी टेस्ट टीम और वर्ष की सर्वŸोष्ठ एक दिवसीय टीम भी चुनेंगे ।

ओलंपिक सफर का आगाज टाटा की बदौलत

मुंबई । बहुत ही कम लोगों को मालूम होगा कि खेल और देश के प्रति लगाव रखने वाले देश के प्रमुख उद्योगपति दोराबजी टाटा की आर्थिक मदद के कारण ही भारत पहली बार ओलंपिक गेम्स में भाग ले सका था। आधुनिक ओलंपिक की शुरूआत के 24 वर्ष तक तिरंगा ओलंपिक में नहीं लहराया था। भारत ने सबसे पहले टीम के रूप में 1920 के एंटवर्प ओलंपिक गेम्स में हिस्सा लिया। इस भारतीय दल में चार एथलीट और दो पहलवान थे। यह संभव हुआ था देश के जाने-माने उद्योगपति सर दोराब जी टाटा की खेल भक्ति के कारण। भले ही भारत को एंटवर्प के ओलंपिक गेम्स में अधिकृत देश के रूप में शामिल न किया गया हो, लेकिन टाटा ने टीम का पूरा आर्थिक खर्चा उठाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *