संभावनाएं इंश्योरेंस सेक्टर में

बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश की मंजूरी मिलने के पहले देश के मात्र दो फीसदी लोग ही अपना इंश्योरेंस करा पाए थे, लेकिन वर्तमान में देश के 22 फीसदी लोग इंश्योर्ड यानी बीमित हैं। आज भारत में सरकारी क्षेत्र के जीवन बीमा निगम के अलावा निजी क्षेत्र में करीब 13 कंपनियां कार्यरत हैं और यह क्षेत्र तेजी से प्रगति कर रहा है। जैसे-जैसे कंपनियों के लक्ष्य बढ़ेंगे, वैसे-वैसे इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। इसी कड़ी में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर (एएओ) पद के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। कुल रिक्तियां 300 हैं। आवेदन करने की अंतिम तिथि 23 सितंबर, 2006 है।
आयु सीमा एक सितंबर, 2006 को सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों की उम्र 21 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग तथा विकलांग वर्ग के अभ्यर्थियों को केंद्र सरकार के नियमानुसार छूट का प्रावधान है।

निजी व बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आने के बाद इंश्योरेंस सेक्टर में रोजगार के असीम अवसर सामने आए हैं। इस कड़ी में एलआईसी ने एएओ पद के लिए बड़ी संख्या में रिक्तियां निकाली हैं।

 

शैक्षणिक योग्यता

मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में 55 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक या स्नातकोत्तर की उपाधि होना अनिवार्य है, जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों के लिए मात्र 45 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। इसके अलावा सीएफए/सीए/आईसीडब्लूए/एमबीए की उपाधि प्राप्त अभ्यर्थी को वरीयता दी जाएगी।

परीक्षा का स्वरूप

दिसंबर माह (संभावित) में होने वाली यह प्रतियोगिता परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाएगी-लिखित परीक्षा एवं साक्षात्कार। पहले चरण में दो प्रश्नपत्र होंगे, जिसमें एक बहु-विकल्पीय तथा दूसरा वर्णनात्मक होगा। प्रथम प्रश्नपत्र में 150 प्रश्न पूछे जाएंगे। इसमें तर्क क्षमता, संख्यात्मक अभियोग्यता, सामान्य ज्ञान व समसामयिक घटनाओं एवं अंग्रेजी भाषा से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।
अंग्रेजी को छोड़कर शेष प्रश्न हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषा में होंगे। अंगे्रजी भाषा खंड में विशेषकर ग्रामर एवं वोकेबुलरी से ज्यादा प्रश्न पूछे जाएंगे। द्वितीय प्रश्नपत्र (वर्णनात्मक) में निबंध, संक्षेपण एवं अनुच्छेद पर आधारित पूछे जाएंगे, जिसका उत्तर आप अंग्रेजी या हिंदी भाषा में दे सकते हैं। द्वितीय प्रश्नपत्र में सिर्फ अर्हक अंक (क्वालिफाइंग मा‌र्क्स) लाना आवश्यक है। इसके अंक मेरिट लिस्ट में शामिल नहीं किए जाएंगे। प्रथम चरण में सफल अभ्यर्थी को ही साक्षात्कार (द्वितीय चरण) के लिए बुलाया जाएगा।

कैसे करें तैयारी

प्रतियोगिता परीक्षा हो या किसी भी स्तर की परीक्षा, सभी के लिए आवश्यक है-आत्मविश्वास, धैर्य, लगन एवं सफल अध्ययन नीति। आत्मविश्वास से कार्य करने की प्रवृत्ति जागृत होती है, जबकि धैर्य व लगन कार्य को अंतिम रूप देने में मदद करता है। इस सभी में सबसे ज्यादा जरूरी है, अध्ययन नीति की। जो अभ्यर्थी एक विशेष अध्ययन नीति अपनाता है, वह अपने मकसद में अवश्य सफल होता है।
इसके लिए आवश्यक है-परीक्षा के स्वरूप से भलीभांति अवगत होना। तर्कक्षमता के लिए किसी भी कक्षा में पढ़ाई नहीं होती है। इसके द्वारा अभ्यर्थी के प्रजेंस ऑफ माइंड को जांचा जाता है। इसके लिए बाजार में अनेक पुस्तकें उपलब्ध हैं। उनमें से सही पुस्तक का चयन कर इसकी तैयारी कर सकते हैं। संख्यात्मक अभियोग्यता में सर्वाधिक प्रश्न मैट्रिक स्तर के होते हैं। इसके लिए एनसीईआरटी की दसवीं तक की गणित की पुस्तकों से महत्वपूर्ण सूत्रों आदि को याद कर लें। साथ ही, इससे संबंधित प्रश्नों को हल करें। हल के दौरान ज्यादा से ज्यादा लघु विधि (शॉट-कर्ट मेथड) का प्रयोग करें, जिससे कम समय में सर्वाधिक प्रश्नों का हल कर सकेंगे। सामान्य ज्ञान के लिए एनसीईआरटी के बारहवीं तक की विज्ञान, सामान्य विज्ञान, अर्थशास्त्र आदि पुस्तकों का अध्ययन श्रेयस्कर होगा तथा समसामयिक घटनाओं के लिए राष्ट्रीय स्तर की पत्र-पत्रिकाओं के अलावा किसी स्तरीय प्रतियोगिता पत्रिका का अध्ययन लाभदायक साबित होगा। जहां स्तरीय ग्रामर (अंग्रेजी भाषा हेतु) की पुस्तक के अध्ययन से व्याकरण पर पकड़ मजबूत किया जा सकता है, वहीं अंग्रेजी पत्र-पत्रिकाओं से वर्ड पॉवर को बढ़ाया जा सकता है। द्वितीय प्रश्नपत्र के लिए हिंदी या अंग्रेजी भाषा में अपनी लेखन क्षमता को बढ़ाना चाहिए। हालांकि यह केवल क्वालिफाइंग है, फिर भी इसमें एक न्यूनतम अर्हक अंक लाना अनिवार्य है। लेखन के समय हमेशा छोटे-छोटे वाक्यों में लिखना चाहिए तथा एक ही प्रकार के वाक्यों का ज्यादा प्रयोग नहीं करना चाहिए। निबंध में किसी विशेष विचारधारा से जुड़े विचार को शामिल नहीं करना चाहिए। यदि आप इसका ध्यान रखते हैं, तो अवश्य सफल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *