HOW TO MAKE YOUR BLOG VISITORS HAPPY AND RETURNING?

सराफा बाजार में लग्नसरा वालों की जोरदार ग्राहकी

सराफा बाजार में लग्नसरा वालों की मांग बराबर बनी हुई है। बाजार में दो-तीन माह तक अच्छी ग्राहकी रहने की संभावना है। क्रिसमस व नववर्ष को ध्यान में रखते हुए विदेशों में भी सोने व चांदी की पूछपरख काफी अच्छी है। इसराइली हमले को ध्यान में रखते हुए सोने का भविष्य मंदीसूचक नजर नहीं आ रहा है। पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों तेजी के समाचारों से सोने में निवेशकों की भी दिलचस्पी बढ़ी है। भारत में बैंकों के अलावा तस्करी आवक भी धीरे-धीरे बढऩे लगी है। सोने की उपलब्धि फिलहाल सुगम नहीं होने से अधिक मंदी के आसार कम है। रूस द्वारा निर्यात घटा दिए जाने से प्लेटिनम और पैलेडियम में अच्छी तेजी का वातावरण बना हुआ है।

पिछले दो दिनों से विदेशी चांदी की आवक अच्छी मात्रा में हो रही है। इस कारण निवेशकों की चांदी में दिलचस्पी कम है। सूत्रों के अनुसार जर्मनी के 35 हजार टन से अधिक चांदी के सि०के यूरोपीय संघ के पास जमा हंै। इन सि०कों की बिकवाली के बारे में यूरोपीय संघ ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। इसराइली हमले को ध्यान में रखते हुए सोने का भविष्य मंदी सूचक नजर नहीं आ रहा है। हालांकि इस हमले का प्रभाव लंबे समय तक रहने की संभावना है। वहीं दूसरी ओर पेट्रोलियम के तेजी के समाचारों से सोने में भी निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ी है। पेट्रोलियम 19 से बढक़र 19.83 डालर प्रति बैरल हो गया है। इस तेजी से चांदी के कामकाज में कमी आई है। भारत में पिछले दो दिनों से चांदी की आवक अच्छी मात्रा में हो रही है, भारत में आगे भी चांदी में जेवर निर्माताओं की मांग बनी रहेगी।

इसका प्रमुख कारण आगे भी शादी-ब्याह का समय है, चांदी के जेवरों में ग्रामीण क्षेत्रों की मांग अच्छी रहती है, जबकि शहरी क्षेत्र के उच्च वर्ग की चांदी के सि०के और बरतन की मांग अधिक रहती है। देश में जिस मात्रा में चांदी की खपत है उसके मुकाबले में चांदी की आवक नहीं होने से मांग की पूर्ति विदेशों से हो रही है, ऐसी स्थिति में चांदी के भावों में लंबी मंदी की संभावना नहीं है। आगामी जनवरी माह से यूरोपीय संघ के एक दर्जन सदस्य देशों में केबल यूरो करेंसी ही चलेगी। वहां के पुराने नोट व सि०कों के बदले में यूरो करेंसी दी जा रही है। केवल जर्मनी से चांदी के एक, दो, पांच मार्क के 35300 टन सि०के यूरोपीय संघ के पास जमा हो गए हैं इन सि०कों के बारे में यूरोपीय संघ ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है।

अगर यह बिकावली करते है तो सिक्को में मंदी आ सकती है। लंदन में चांदी में अधिक मंदी की संभावना नहीं है। वैसे देश में चांदी के पुराने सि०के का स्टाक सीमित है, और इसका व्यापार केवल तेजी-मंदी के समय ही अधिक होता है। विदेशी बाजार में क्रिसमस एवं नववर्ष को ध्यान में रखते हुए सोने-चांदी की पूछपरख शुरू हो गई है। ऐसी स्थिति में लंदन में सोने के भावों में लंबी मंदी की संभावना नहीं है। पश्ïिचमी देशों में माह के अंत तक और वियतनाम व कुछ अन्य एशियाई देशों में फरवरी माह में नववर्ष होने के कारण से सोने की मांग बढऩे की संभावना बताई जा रही है, ऐसी स्थिति में सोने का भविष्य लंबी मंदी की स्थिति नजर नहीं आ रही है।

भारत में बैंकों के माध्यम से एवं व्यापारियों के पास भी तस्करी सोने की आवक शुरू हो जाने के बाद भी सोने के भावों में नरमी की संभावना नहीं है। भारत में जेवर निर्माताओं की पूछपरख अच्छी होने स्टाकिस्टों की कम भावों में बेचवाली नहीं है। व्यापारिक सूत्रों के अनुसार शादी-ब्याह का सीजन इस बार लंबे समय तक चलने वाला है, ग्रामीण क्षेत्रों की भी शादी-ब्याह में चांदी के साथ ही सोने की मांग भी बढऩे लगी है। इसराइली हमले से सोने में तेजी की संभावना है। रूस द्वारा निर्यात घटा दिए जाने से प्लेटिनम और पैलेडियम के भावों में तेजी की स्थिति में भाव डेढ़ माह के उच्च स्तर पर पहुंचने का भी प्रभाव पड़ा है।

स्थानीय सराफा बाजार में चांदी की आवक में भारी कमी होने व मांग जोरदार होने से भाव में सुधार का रुख रहा। प्राप्त जानकारी के अनुसार चांदी में जेवर निर्माताओं की पूछपरख अच्छी रहने के साथ ही लग्नसरा वालों की उपभोक्ता मांग भी धीरे-धीरे निकलने से भाव में तेजी का वातावरण बनने लगा है। कल लंदन में चांदी 425 से घटकर 415 सेंट प्रति औंस रह जाने के बाद आज फिर सुधरकर 424 सेंट हो जाने के समाचार थे। चांदी सि०के में कामकाज सामान्य रहा। भाव में कोई परिवर्तन नहीं रहा। सोने में मांग अभाव रहने व आस्ट्रेलिया में केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याजदर पांच से घटाकर सवा चार प्रतिशत किए जाने के समाचार है, किंतु बैंक ऑफ इंग्लैंड ने यह चार प्रतिशत के पूर्वस्तर पर कायम रखी।

इसलिए लंदन में सोना 274.25 डालर प्रति औंस के नीचेस्तर पर बताया गया। विदेशी मुद्रा मार्केट में अमेरिकन डालर 47.92 रुपए पर होने से बैंकों के जरिए विदेशी सोने की सप्लाई बढक़र डेढ़-दो हजार किलो दैनिक होने की आशा है। इसलिए स्थानीय बाजार भी प्रभावित हो रहा है। गत दिवस की तुलना में स्वर्ण बिस्कुट में लगभग 150 रु. की गिरावट रही। घटे भावों पर भी मांग काफी कमजोर है। चांदी पाट 7080 चांदी टंच 7050 चांदी सि०का 10700 से 10800 सोना तोले में 5615 दस ग्राम 4530 तथा बिस्कुट का भाव 52900 रु. का रहा। नई दिल्ली सराफा बाजार में कल विदेशी चांदी की आवक भी पांच हजार से घटकर लगभग तीन हजार किलो रह गई।

परिणामस्वरूप लंदन देखकर आयातक बिकवाली से पीछे हट गए। दूसरी ओर राजस्थान, हरियाणा व उत्तरप्रदेश के कारखानेदार नीचे भाव पर लेवाली में आ गए। हाजर चांदी 7058 से सुधरकर 7090 रुपए प्रति किलो हो गई। चांदी डिलीवरी भी 7053 की बजाय 7090 रुपए बताई गई। स्वर्ण बिस्कुट और स्टैंडर्ड के भाव 4555 व 4565 रुपए प्रति दस ग्राम पर पांच रुपए घट गए। चांदी हाजर (999) 7090, डिलीवरी 7090, कच्ची 7040, सि०का लेवाली 11500, बिकवाली 11600, सोना बिस्कुट 4555, स्टैंडर्ड 4565, आभूषण 4415, गिन्नी (प्रत्येक)3775/3800 रुपए। उज्जैन सराफा बाजार में सोना स्टैंडर्ड 4560 सोना रवा 4500 रु. प्रति दस ग्राम चांदी पाट 7150 रु. प्रति किलो चांदी टंच 7000 रु. प्रतिकिलो सि०का 10,500 रु. प्रति सैकड़ा स्वर्ण बिस्कुट 53,100 रु. प्रति नग।

रतलाम सराफा बाजार में चांदी चौरसा 7050 चांदी टंच 7000 चांदी सि०का 10500 सोना स्टैंडर्ड 4550 सोना रवा 4510 तथा बिस्कुट का भाव 53000 रु. के रहे। मुंबई सराफा बाजार में चांदी 999 हाजर 7270 टेंडरेबल चांदी 7275 सोना स्टैंडर्ड 4550 तथा बिस्कुट का भाव 53350 रुपए। चेन्नई सराफा बाजार में चांदी प्रतिकिलो सिल्ली 7260 टुकड़ा 7700 सोना प्रति दस ग्राम स्टैंडर्ड 4560 जेवराती 4180 रुपए के आसपास भाव रहे। हापुड़ सराफा बाजार में चांदी प्रति किलो 6875 सोना प्रति दस ग्राम 4550 रुपए। जलगांव सराफा बाजार में चांदी 7400 सोना 4725 रुपए का रहा। चेन्नई तेल-तिलहन चेन्नई तेल-तिलहन बाजार में भाव इस प्रकार रहे- प्रति ०िवंटल में मूंगफली 3800 से 3850 अरंडी 3200 तिल 3800 नारियल 15 किलो 839 वनस्पति 15 किलो 585 से 595 तिलहन मूंगफली दाना 80 किलो 1450 खल-मूंगफली 70 किलो 660 रुपए के आसपास भाव रहे। शकर एस 30 1430 रुपए प्रति ०िवंटल के भाव रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *